मंगल के बारे में

मंगल ग्रह पर जल और जीवन के तलास के परयासो के बीच वैज्ञानिको के एक दल ने यहाँ पर प्राचीन झीले ख़ोजने का दावा किया है उनका कहना है की इस ग्रह पर कभी झीले थी और उसमे कभी जीवन था यह जीवन सूछ्म जैविक अवस्था में था इस दल का नेत्रत्व भारतीय मूल के वैज्ञानिक संजीव गुप्ता कर रहे है वैज्ञानिको ने मार्स रिकोनैन्सेंस आर्बीटर से मिली तस्बीरो की फोरेंसिक जाच के बाद यह दावा किया सैतैलाईत के द्वारा खीचे गयी गयी तस्वीरों से पता चलता है मंगल की भूमध्य रेखा पर करीब २० किलोमीटर चौरी झील थी जो प्रथ्वी पर मौजूद

विज्ञानं का vikash

आक्सफोर्ड में टेक्नालाजी कन्र्फारेंस में प्रोफ्फेसर हेनरी अपनी परियोजना के बारे में बताया की २०१८ तक समझदार और सम्बेदंसील दिमाग क्रितीम रूप से तैयार कर लेगे एक ऐसा मस्तिस्क जो की सिलिकन सोना और ताबे का बना होगा
आदुनिक मानव के पूर्वज होमोसपेयांस को अपने विकाश काल में प्रकृति के प्रतिकूलता का सामना करना पड़ा उसे भोजन जुटाने तथा जलवावुगत परिवर्तनों से बचने के लिए कदा संगर्ष करना पड़ा उससे हिंसक पशु उसके जान के दुश्मन बने हुए थे किन्तु इन सबके बिरुद्ध परिस्तितियो का सामना आदि मानव ने बड़े साहस के साथ किया

Featured Post

हमारा विज्ञानऔर हमारी धरोहर

जब हमारे देश में बड़ी बड़ी  राइस मील नहीं थी तो धान को घर पर ही कूटकर भूसे को अलग कर चावल प्राप्त किया जाता था... असलियत में वही...