Sakshatkar.com : Sakshatkartv.com

.

रविवार, 13 जनवरी 2013

लास वेगास में टीवी की बदलती तस्वीर

2

अमेरिका के लास वेगास को आलीशान होटलों और कसीनो के लिए जाना जाता है, लेकिन यहां दुनिया का सबसे बड़ा इलेक्ट्रॉनिक मेला भी लगता है. इस बार इस मेले में एचडी और ओएलईडी टीवी का जादू बिखरा हुआ है. एक टीवी की कीमत छह लाख तक है. अमेरिका के लास वेगास को आलीशान होटलों और कसीनो के लिए जाना जाता है, लेकिन यहां दुनिया का सबसे बड़ा इलेक्ट्रॉनिक मेला भी लगता है. इस बार यहां एचडी और ओएलईडी टीवी का जादू बिखरा हुआ है. एक टीवी की कीमत 60 लाख रुपये तक है. तकनीक में दो मजेदार चलन हैं: एक तो हर मुमकिन उपकरण के आकार को छोटा करने का और दूसरा फोन और टीवी की स्क्रीन को बड़ा करने का. कंप्यूटर छोटे हो कर टैबलेट की शक्ल ले चुके हैं, तो टीवी की स्क्रीन अब 90 इंच तक हो गई है. कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स शो यानी सीईएस में दुनिया भर की टीवी बनाने वाली कंपनियों ने शिरकत की है. इनमें सैमसंग, सोनी, एलजी, शार्प और पैनासोनिक शामिल हैं. खास तौर से सैमसंग और पैनासोनिक का पलड़ा इस शो में भारी लग रहा है. 89" का स्मार्ट टीवी सैमसंग के एस9 को देखने के लिए यहां काफी भीड़ जमा हो रही है. यह टीवी यूएचडी यानी अल्ट्रा हाई डेफिनिशन तकनीक का इस्तेमाल करता है और इसकी स्क्रीन 89 इंच की है. सैमसंग का दावा है कि इस तकनीक से तस्वीरें एचडी के मुकाबले चारगुना साफ दिखती हैं. इसकी यही खासियत तस्वीरों में अनोखी जान डाल देता है. इसके अलावा अत्याधुनिक कंप्यूटर की तरह इस टीवी में क्वाड्रा कोर प्रोसेसर लगा है, जिस कारण इसे स्मार्ट टीवी का नाम दिया गया है. टीवी देखते देखते अगर दोस्तों से बात करने का मन करे या गेम खेलने का मन हो तो उठ कर फोन या कंप्यूटर तक जाने की जरूरत नहीं. सब कुछ इस स्मार्ट टीवी में हो जाएगा. सैमसंग ने इसमें पांच पैनल बनाए हैं. पहला पैनल 'ऑन टीवी' सामान्य केबल टीवी की तरह काम करता है. लेकिन यह आपके पसंदीदा कार्यक्रम को खुद ही सेव कर लेता है. जब आप टीवी देख रहे होते हैं, यह खुद ब खुद कोने में एक छोटी स्क्रीन पर देखा हुआ दूसरा कार्यक्रम भी लगा देता है ताकि आप उसे देखना भूल न जाएं. इस तरह से एक ही साथ टीवी पर कई छोटी स्क्रीन दिख सकती हैं. दूसरा पैनल है 'मूवी एंड टीवी'. इसमें भी टीवी मनपसंद फिल्मों पर ध्यान देता है. पर इस पैनल में ऑन डिमांड वीडियो चलते हैं, जिन्हें आपने अलग से पसंद किया होता है. तीसरा पैनल है 'फोटो, वीडियो एंड मूवी'. यहां आप कंप्यूटर की तरह टीवी में सेव की गयी तस्वीरें वगैरह देख सकते हैं. चौथा पैनल है 'एप्स'. यहां भी कंप्यूटर या स्मार्टफोन की ही तरह टीवी को इस्तेमाल किया जा सकता है. पांचवां और आखिरी पैनल है 'सोशल' यानी यहां आप फेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब के जरिए वीडियो देख सकते हैं. ओएलईडी के फीचर यूएचडी के अलावा ओएलईडी यानी ऑर्गेनिक लाइट एमिटिंग डायोड की भी मेले में धूम है. इसी तकनीक पर चलने वाले सैमसंग के एफ9500 में भी अनोखे फीचर हैं. इस टीवी के सामने बैठ कर दो लोग दो अलग अलग कार्यक्रम देख सकते हैं. इसके लिए खास 3डी चश्मों की जरूरत पड़ेगी. इस टीवी की कीमत 10,000 डॉलर रखी गयी है. सैमसंग का कहना है कि उसने दुनिया का पहला ऐसा टीवी बनाया है जिसकी स्क्रीन हल्की सी मुड़ी है. इससे तस्वीरें और भी शानदार दिखती हैं. लेकिन मेले में इस तकनीक को दिखाने वाले और भी हैं. एलजी ओएलईडी टीवी बनाने वाली पहली कंपनी के रूप में अपनी पहचान बनाना चाहता है. 55 इंच वाले ओएलईडी टीवी की कीमत 12,000 डॉलर है. इसी तरह पैनासोनिक भी 4के ओएलईडी टीवी लाया है. 56 इंच स्क्रीन के साथ पैनासोनिक का दावा है कि यह दुनिया का सबसे बड़ा ओएलईडी टीवी है. इसमें फेशियल रेकॉगनिशन तकनीक लगी है जो टीवी के सामने बैठे व्यक्ति के चेहरे को पहचान लेती है. इसके जरिए टीवी आपको बता सकता है कि आपके दोस्त इस वक्त क्या देख रहे हैं. ओएलईडी तकनीक वाले टीवी दूसरे टीवी के मुकाबले कईगुना पतले होते हैं. इनमें तस्वीरों के रंग बेहतरीन होते हैं और बिजली की खपत कम होती है. हालांकि इनकी कीमत देखते हुए जानकारों का मानना है कि इन्हें बाजार में जगह बनाने में समय लग सकता है. लेकिन तकनीक के शौकीन फिलहाल लास वेगास में इन चमकती तस्वीरों का लुत्फ उठा सकते हैं. यह मेला 8 से 11 जनवरी तक चलेगा. आईबी/एजेए (एएफपी, डीपीए) sabhae DW.DE

Read more

लास वेगास में टीवी की बदलती तस्वीर

0

अमेरिका के लास वेगास को आलीशान होटलों और कसीनो के लिए जाना जाता है, लेकिन यहां दुनिया का सबसे बड़ा इलेक्ट्रॉनिक मेला भी लगता है. इस बार इस मेले में एचडी और ओएलईडी टीवी का जादू बिखरा हुआ है. एक टीवी की कीमत छह लाख तक है. अमेरिका के लास वेगास को आलीशान होटलों और कसीनो के लिए जाना जाता है, लेकिन यहां दुनिया का सबसे बड़ा इलेक्ट्रॉनिक मेला भी लगता है. इस बार यहां एचडी और ओएलईडी टीवी का जादू बिखरा हुआ है. एक टीवी की कीमत 60 लाख रुपये तक है. तकनीक में दो मजेदार चलन हैं: एक तो हर मुमकिन उपकरण के आकार को छोटा करने का और दूसरा फोन और टीवी की स्क्रीन को बड़ा करने का. कंप्यूटर छोटे हो कर टैबलेट की शक्ल ले चुके हैं, तो टीवी की स्क्रीन अब 90 इंच तक हो गई है. कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स शो यानी सीईएस में दुनिया भर की टीवी बनाने वाली कंपनियों ने शिरकत की है. इनमें सैमसंग, सोनी, एलजी, शार्प और पैनासोनिक शामिल हैं. खास तौर से सैमसंग और पैनासोनिक का पलड़ा इस शो में भारी लग रहा है. 89" का स्मार्ट टीवी सैमसंग के एस9 को देखने के लिए यहां काफी भीड़ जमा हो रही है. यह टीवी यूएचडी यानी अल्ट्रा हाई डेफिनिशन तकनीक का इस्तेमाल करता है और इसकी स्क्रीन 89 इंच की है. सैमसंग का दावा है कि इस तकनीक से तस्वीरें एचडी के मुकाबले चारगुना साफ दिखती हैं. इसकी यही खासियत तस्वीरों में अनोखी जान डाल देता है. इसके अलावा अत्याधुनिक कंप्यूटर की तरह इस टीवी में क्वाड्रा कोर प्रोसेसर लगा है, जिस कारण इसे स्मार्ट टीवी का नाम दिया गया है. टीवी देखते देखते अगर दोस्तों से बात करने का मन करे या गेम खेलने का मन हो तो उठ कर फोन या कंप्यूटर तक जाने की जरूरत नहीं. सब कुछ इस स्मार्ट टीवी में हो जाएगा. सैमसंग ने इसमें पांच पैनल बनाए हैं. पहला पैनल 'ऑन टीवी' सामान्य केबल टीवी की तरह काम करता है. लेकिन यह आपके पसंदीदा कार्यक्रम को खुद ही सेव कर लेता है. जब आप टीवी देख रहे होते हैं, यह खुद ब खुद कोने में एक छोटी स्क्रीन पर देखा हुआ दूसरा कार्यक्रम भी लगा देता है ताकि आप उसे देखना भूल न जाएं. इस तरह से एक ही साथ टीवी पर कई छोटी स्क्रीन दिख सकती हैं. दूसरा पैनल है 'मूवी एंड टीवी'. इसमें भी टीवी मनपसंद फिल्मों पर ध्यान देता है. पर इस पैनल में ऑन डिमांड वीडियो चलते हैं, जिन्हें आपने अलग से पसंद किया होता है. तीसरा पैनल है 'फोटो, वीडियो एंड मूवी'. यहां आप कंप्यूटर की तरह टीवी में सेव की गयी तस्वीरें वगैरह देख सकते हैं. चौथा पैनल है 'एप्स'. यहां भी कंप्यूटर या स्मार्टफोन की ही तरह टीवी को इस्तेमाल किया जा सकता है. पांचवां और आखिरी पैनल है 'सोशल' यानी यहां आप फेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब के जरिए वीडियो देख सकते हैं. ओएलईडी के फीचर यूएचडी के अलावा ओएलईडी यानी ऑर्गेनिक लाइट एमिटिंग डायोड की भी मेले में धूम है. इसी तकनीक पर चलने वाले सैमसंग के एफ9500 में भी अनोखे फीचर हैं. इस टीवी के सामने बैठ कर दो लोग दो अलग अलग कार्यक्रम देख सकते हैं. इसके लिए खास 3डी चश्मों की जरूरत पड़ेगी. इस टीवी की कीमत 10,000 डॉलर रखी गयी है. सैमसंग का कहना है कि उसने दुनिया का पहला ऐसा टीवी बनाया है जिसकी स्क्रीन हल्की सी मुड़ी है. इससे तस्वीरें और भी शानदार दिखती हैं. लेकिन मेले में इस तकनीक को दिखाने वाले और भी हैं. एलजी ओएलईडी टीवी बनाने वाली पहली कंपनी के रूप में अपनी पहचान बनाना चाहता है. 55 इंच वाले ओएलईडी टीवी की कीमत 12,000 डॉलर है. इसी तरह पैनासोनिक भी 4के ओएलईडी टीवी लाया है. 56 इंच स्क्रीन के साथ पैनासोनिक का दावा है कि यह दुनिया का सबसे बड़ा ओएलईडी टीवी है. इसमें फेशियल रेकॉगनिशन तकनीक लगी है जो टीवी के सामने बैठे व्यक्ति के चेहरे को पहचान लेती है. इसके जरिए टीवी आपको बता सकता है कि आपके दोस्त इस वक्त क्या देख रहे हैं. ओएलईडी तकनीक वाले टीवी दूसरे टीवी के मुकाबले कईगुना पतले होते हैं. इनमें तस्वीरों के रंग बेहतरीन होते हैं और बिजली की खपत कम होती है. हालांकि इनकी कीमत देखते हुए जानकारों का मानना है कि इन्हें बाजार में जगह बनाने में समय लग सकता है. लेकिन तकनीक के शौकीन फिलहाल लास वेगास में इन चमकती तस्वीरों का लुत्फ उठा सकते हैं. यह मेला 8 से 11 जनवरी तक चलेगा. आईबी/एजेए (एएफपी, डीपीए) DW.DE

Read more

गुरुवार, 3 जनवरी 2013

2012 की सबसे बड़ी खोज ‘गॉड पार्टिकल’, जानिए इस साल की टॉप 10 खोज

4

लंदन. साइंस मैगजीन ने वर्ष 2012 की 10 सबसे बड़ी खोज की सूची जारी की है। इसमें हिग्स बोसोन की खोज शीर्ष स्थान पर रही है। वैज्ञानिक पिछले 4 दशकों से ‘गॉड पार्टिकल’  की तलाश में थे। यह है 2012 की टॉप-10 उपलब्धियां-
हिग्स बोसोन

जुलाई 2012 में यूरोपीय न्यूक्लीयर रिसर्च टीम ने जिनेवा के सर्न में घोषणा की कि उन्होंने एक ऐसे कण को खोज लिया है जो ‘गॉड पार्टिकल’ की अवधारणा पर खरा उतरता है। वैज्ञानिकों ने उस पार्टिकल की खोज में स्विस-फ्रांस बॉर्डर पर दुनिया की सबसे बड़ी एटम स्मेशिंग मशीन स्थापित की। साइंस न्यूज जर्नलिस्ट एड्रियन चो ने लिखा- बोसोन ने ही अंतरिक्ष में विद्यमान‘हिग्स फील्ड’ के जरिए तत्वों को घनत्व प्रदान किया। घनत्व के बिना ब्रह्मांड की अस्तित्व नामुमकिन है।



2012 की सबसे बड़ी खोज ‘गॉड पार्टिकल’, जानिए इस साल की टॉप 10 खोज

2012 की सबसे बड़ी खोज ‘गॉड पार्टिकल’, जानिए इस साल की टॉप 10 खोज


डेनिसोवान जीन

विलुप्त मानव प्रजाति ‘डेनिसोवांस’ के डीएनए ब्लूप्रिंट के सीक्वेंस को खोजना। ये 41 हजार साल पहले साइबेरिया में रहते थे।

2012 की सबसे बड़ी खोज ‘गॉड पार्टिकल’, जानिए इस साल की टॉप 10 खोज


स्टेम सेल से अंडा बनाना

जापानी रिसर्चर ने चूहे के एंब्रायोनिक स्टेम सेल से अंडे का निर्माण किया। जिससे नए चूहे की उत्पत्ति हुई। भविष्य में नि:संतान दंपत्ति के लिए वरदान साबित होगी।

2012 की सबसे बड़ी खोज ‘गॉड पार्टिकल’, जानिए इस साल की टॉप 10 खोज
मेजोराना फर्मिनोस

हर तत्व में पाया जाने वाला एक ऐसा तत्व जो अपने मूल तत्व से हटकर व्यवहार करता है जो वस्तु के साथ होने वाली क्रिया का बिलकुल हटकर व्यवहार दर्शाता है। इस तत्व को लेकर गत 7 दशकों से बहस छिड़ी हुई थी।





2012 की सबसे बड़ी खोज ‘गॉड पार्टिकल’, जानिए इस साल की टॉप 10 खोज

एक्स रे से प्रोटीन खोज

सामान्य स्रोत से एक अरब गुना तेज चमकीली एक्स-रे से अफ्रीकन स्लीपिंग सिकनेस पैदा करने वाले एंजाइम की खोज। इस बीमारी से हर साल 30 हजार लोग मरते हैं।


2012 की सबसे बड़ी खोज ‘गॉड पार्टिकल’, जानिए इस साल की टॉप 10 खोज


जीनोम टूल टेलेन

ट्रांसक्रिप्शन एक्टिवेटर लाइक इफेक्टर न्यूक्लियस(टेलेन), जो बीमार जीव के शरीर से स्वस्थ्य व्यक्ति में आने वाले जीन और सेल का पहचान करता है। जिससे पशु-पक्षियों से इंसानों में आने वाली बीमारियों की रोका जा सकेगा।



2012 की सबसे बड़ी खोज ‘गॉड पार्टिकल’, जानिए इस साल की टॉप 10 खोज


क्यूरोसिटी लैंडिंग

नासा के क्यूरोसिटी रोवर के लैंडिंग सिस्टम को पांचवें स्थान पर रखा गया। अमेरिका के महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट के तहत, 3.3 टन के रोवर की लैंडिंग।

2012 की सबसे बड़ी खोज ‘गॉड पार्टिकल’, जानिए इस साल की टॉप 10 खोज

एनकोड प्रोजेक्ट

एक दशक की स्टडी के रिजल्ट के मुताबिक मानवीय जीनोम वैज्ञानिकों की सोच से अधिक 80 प्रतिशत सक्रिय पाया गया है जो नई संभावनाएं विकसित करेंगी।



2012 की सबसे बड़ी खोज ‘गॉड पार्टिकल’, जानिए इस साल की टॉप 10 खोज

न्यूट्रीनो मिक्सिंग

चीन के वैज्ञानिकों ने डाया बे रिएक्टर न्यूक्लीयर एक्सपेरीमेंट के जरिए न्यूट्रीनो को प्रकाश की रफ्तार से गति कराकर एकरूप बनाने में कामयाबी हासिल की है।

2012 की सबसे बड़ी खोज ‘गॉड पार्टिकल’, जानिए इस साल की टॉप 10 खोज





ब्रेन मशीन इंटरफेस

दिमाग की न्यूरल रिकॉर्डिग के जरिए कम्प्यूटर स्क्रीन पर कर्सर नियंत्रण कर दिखाया। लकवाग्रस्त व्यक्ति मैकेनिकल हाथ को दिमाग से कई दिशाओं में घुमा सकता है। इसे भविष्य में स्पाइनल चोट और अन्य मामलों में प्रयोग संभव होगा। sabhar : bhaskar.com



2012 की सबसे बड़ी खोज ‘गॉड पार्टिकल’, जानिए इस साल की टॉप 10 खोज


Read more

Ads

 
Design by Sakshatkar.com | Sakshatkartv.com Bollywoodkhabar.com - Adtimes.co.uk | Varta.tv