कामवासना का विज्ञान

#गुरुदेवकाअभौतकसत्ताकीज्ञानविज्ञानमण्डलीसेसमपर्क6
**********************************
परम श्रद्धेय ब्रह्मलीन गुरुदेव पण्डित अरुण कुमार शर्मा काशी की अध्यात्म-ज्ञानधारा में पावन अवगाहन 

पूज्य गुरुदेव के श्रीचरणों में कोटि-कोटि नमN

      महात्मा महाव्रत एक जटिल आध्यात्मिक विषय को कितनी सरलता से समझा रहे थे--यह मेरे लिए आश्चर्यजनक था। वे थोड़ा ठहरकर आगे बोले--भौतिक जगत् मिथुनजन्य है। उसकी सीमा में जितनी भी सृस्टि है, सब मैथुनी सृष्टि है। इसलिए कि मैथुनी जगत् में 'काम' प्रधान है। उसकी व्यापकता सर्वत्र है। उसका अस्तित्व कण-कण में है और एकमात्र यही कारण है कि उस पर विजय प्राप्त करना अथवा उससे परे होना अति कठिन कार्य है। कामवासना को हम जितना दबाएंगे, उतनी ही वह बढ़ेगी। भले ही हम जननेंद्रिय या कामेन्द्रिय का उपयोग न करें लेकिन हमारा जो मन है, हमारा जो चित्त है, वह सदैव कामवासना से भरा ही रहेगा। इसका एकमात्र कारण है कि हम शरीर से पूर्णतया जुड़े हुए हैं। यदि हमें कामवासना से मुक्त होना है तो दो बातों को सदैव याद रखें। पहली बात--मैं शरीर नहीं हूँ। दूसरी बात--मेरे भीतर जीवन की कामना नहीं है। इन दोनों बातों के प्रति हमारी दृष्टि स्थिर होनी चाहिए।
       कामवासना का विरोध मृत्यु से है। जन्म तो कामवासना से होता है, परन्तु मृत्यु कामवासना का अन्त है। मृत्यु कामवासना विरोधी है। भारतीय मनीषा का कहना है कि यदि वास्तव में कामवासना पर विजय प्राप्त करना है, कामवासना से विमुख होना है तो मृत्युसाधना करनी चाहिए। मृत्युसाधना सबसे बड़ी साधना है। कामवासना से परे जाने के लिए मृत्यु साधना एक परम वैज्ञानिक प्रयोग है।
       इसके लिए हमें मरघट पर, श्मशान पर अधिक से अधिक जाना चाहिए। ध्यान से देखना चाहिए कि जो कभी जीवित था, उसका अंग-अंग कैसे आग की लपटों में जल रहा है ! मरघट ही, श्मशान ही हमारा वास्तविक साधना-स्थल है। मुर्दे आएंगे, बच्चों के, जवानों के, वृद्धों के, उनमें कुछ सुन्दर होंगे, कुछ विकृत होंगे, कुछ कुरूप होंगे, कुछ स्वस्थ होंगे और कुछ होंगे अस्वस्थ भी। इस प्रकार के शव आएंगे, मुर्दे आएंगे, उनको हमें देखना चाहिए, उनकी जलती चिताएं देखनी चाहिए, उन्हें मुट्ठीभर राख में बदलते देखना चाहिए। हमें उन पर अपने मन को एकाग्र करना चाहिए।
       मृत्यु-साधना अध्यात्मसाधना की एक महत्वपूर्ण वैज्ञानिक साधना है। क्योंकि मृत्यु हमारे सामने पूर्णतया स्पष्ट हो जाये तो हमारी कामवासना तुरंत नष्ट हो जायेगी। इसी तथ्य को एक उदाहरण के द्वारा समझाता हूँ--महात्मा महाव्रत बोले-- एक अत्यंत सुन्दर तरुणी व्यक्ति के सामने हो और वह कामवासना से भरा हुआ हो। शारीरिक सुख को प्राप्त करने के लिए वह लालायित हो और उसी समय उसके किसी अपराध के दण्ड स्वरूप राज्य की ओर से यह सूचना मिले कि उसे आज शाम को मृत्युदण्ड दिया जायेगा। सोचिये--उस व्यक्ति की उस समय क्या स्थिति होगी ? वह सुन्दर कमनीय तरुणी उसके आँखों से खो जायेगी। वासना का प्रवाह बन्द हो जायेगा। वासना की सारी धारा तिरोहित हो जायेगी। वासना का रस तत्काल समाप्त हो जायेगा क्योंकि उसके मन में एक ही बात स्थायी रूप से बैठ जायेगी कि आज सायंकाल हमें मृत्यु के मुख में हमेशा-हमेशा के लिए समा जाना होगा।
       कहने का तात्पर्य यह है कि कामवासना से मुक्त होने के लिए सदैव मृत्यु का स्मरण करते रहना चाहिए। हमें समझना चाहिए कि मृत्यु कभी भी आ सकती है। सच भी है--मृत्यु कब आ जाये किसे पता है ? मृत्यु किसी भी पल आ सकती है। हो सकता है जो पल हम जी रहे हैं, वही आखीरी पल हो। हमारा शरीर हमेशा-हमेशा के लिए छूट जाने वाला हो। मृत्यु की धारणा जितनी गहरी होगी, कामवासना उतनी ही कमजोर होती जाएगी और एक समय ऐसा आएगा जब हमें कामवासना से निजात मिल जायेगी। यह मुक्ति न कामवासना के दमन से उपलब्ध् होती है और न ही उपलब्ध् होती है उसके भोग से।
      व्यक्ति को समझ लेना चाहिए कि सभी इंद्रियों का केंद्र कामेन्द्रिय है। व्यक्ति के नेत्रों के माध्यम से कामवासना रूप-सौन्दर्य खोजती है। कानों से मधुर ध्वनि, कामोत्तेजक आवाज, संगीत सुनती है। संगीत से कामवासना ही तृप्त होती है। सुन्दर चित्र, सुन्दर वातावरण, प्राकृतिक सुंदरता, पक्षियों का मनमोहक कलरव, गगन में खिला हुआ पूनम का चाँद, हरे-भरे लहलहाते खेत, हवा में लहराते हुए रंग-विरंगे फूल--ये सब क्या हैं ? कानों और नेत्रों के द्वारा जगत् के साथ एक प्रकार का सम्भोग ही तो है।  नाक के द्वारा सुमधुर  कामोत्तेजक् गन्ध, जीभ के द्वारा मधुर स्वाद, त्वचा के द्वारा कोमल कमनीय काया का स्पर्श --ये सब मैथुन का ही एक प्रकार है। इन सब कामोद्दीपक साधनों से मन में कामवासना ही तो पुष्ट होती है जिनका माध्यम बनती हैं व्यक्ति की ज्ञानेन्द्रियाँ और उपभोग का माध्यम बनती हैं व्यक्ति की कर्मेन्द्रियाँ। बस, इस प्रसंग के अंत में हमें केवल इतना ही कहना है कि कामवासना जीवन वासना का पर्याय है। जीवन वासना ही जीवेषणा है। इससे बड़ा पागलपन जीवन में और क्या है ? क्योंकि जीवन में इससे क्या उपलव्धि होती है? हमारे हाथ क्या लगता है ? फिर भी हम जीना चाहते हैं। जीवन को हम छोड़ने के लिए कदापि तैयार नहीं होते। हमें यह बात ज्ञात होनी चाहिए कि यदि हम स्वेच्छा से जीवन त्यागने के लिए तैयार हैं तो एक नया जीवन हमें उपलब्ध् हो जाता है। मृत्यु-- जिसका एक विश्राम-स्थल होता है और उस विश्राम के बाद हम पुनः एकबार महाजीवन की यात्रा पर निकल पड़ते हैं। जो व्यक्ति जीवन को दरिद्र की भांति पकड़े रहता है, एक भिखारी की तरह जीवन की भीख मांगता है, उसके हाथ क्या लगता है सिवाय एक पश्चाताप के ? इसके अलावा और कुछ भी नहीं।

आगे के लिए इंतज़ार करें-- sabhar Shiv ram sharma Facebook 

जीन में बदलाव से दूर होगी बीमारी

हीमोफीलिया जैसी जन्मजात बीमारी के आगे चिकित्सा जगत भी लाचार है लेकिन अब ऐसे असाध्य रोगों का इलाज मुश्किल नहीं होगा फिलाडेल्फिया स्थित चिल्ड्रन हॉस्पिटल के डॉक्टरों ने जून 2011 में geen में बदलाव कर पहली बार इन बीमारियों से लड़ने की क्षमता विकसित करने का दावा किया था  हालांकि उनका शोध शुरुआती दौर में है और उन्हें उन्हें यह सफलता चूहों के इलाज में मिली थी लेकिन शोधकर्ता आने वाले समय में के लिए इसी एक बड़ी उपलब्धि मान रहे हैं वैज्ञानिकों द्वारा विकसित की गई इस पद्धति को अनुवांशिक संपादन जिनोम एडिटिंग नाम दिया गया है शोधकर्ताओं का कहना है कि इस तकनीक से आनुवंशिक त्रुटियों में सुधार किया जाएगा जिससे आने वाली पीढ़ी में जन्मजात बीमारी होती है शोधकर्ताओं ने इस तकनीक का प्रयोग चूहों पर किया जो सफल भी रहा इसमें ऐसे चूहों को लिया गया जो हीमोफीलिया बी नामक अनुवांशिक बीमारी से ग्रसित थे इस जन्मजात बीमारी में खून का थक्का बनने की प्रक्रिया रुक जाती है ऐसे में एक बार चोट लगने या कटने पर खून लगातार बहता रहता है जुआ से ज्यादा खून बह जाने पर कई बार मौत भी हो जाती है वैज्ञानिकों ने हीमोफीलिया बी से ग्रसित चूहों के जीनोम को संपादित किया इस प्रक्रिया में उनके खराब इनको बदल दिया गया वैज्ञानिकों ने पाया कि जिलों में बदलाव के बाद चूहे ठीक हो गए काटने पर उनका खून भी सामान्य चूहों की तरह जम गया वह भी बिना किसी negativ प्रभाव की

बायोनिक चश्मा की सहायता से देख रखेंगे दृष्टिहीन

 वैज्ञानिक ऐसे बायोनिक चश्मे को विकसित करने की राह पर है जिसके बारे में उनका दावा है कि जल्द ही बाजार में बिक्री के लिए उपलब्ध होंगी स्मार्ट चश्मा को ब्रिटेन स्थित ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों की एक टीम विकसित कर रही है यह चश्मे दृष्टिहीन लोगों के लिए देखने में मददगार होंगे इन चश्मे के फ्रेम के सिरे पर बेहद छोटे कैमरे लगे होते हैं और जेब में रखने वाला एक पॉकेट कंप्यूटर होता है यह दोनों चीजें दृष्टिहीन को आगे की चीजों और लोगों के बारे में सूचित करती हैं इस तरह के चश्मे बाजार में आने के बाद दृष्टिहीन लोग आसानी से व्यस्त इलाकों में सड़कों पर चल सकेंगे यहां तक की बस नंबर और सड़कों पर लगे संकेत चिन्ह को भी पढ़ सकेंगे इन चश्मा का सबसे अधिक लाभ वृद्ध लोगों को मिलेगा जो बढ़ती उम्र के कारण ठीक से देख नहीं पाते इससे पहले भी इस तरह के उपकरण बनाने के प्रयास हुए हैं लेकिन वे व्यावहारिक तौर पर सटीक नहीं बैठे लेकिन विकसित तकनीक के चलते बायोनिक चश्मे बनाना संभव हो पाया है जो करीब  चश्मों की ही तरह दिखेंगे

हानि रहित सिगरेट की खोज

ब्रिटिश वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि उन्होंने ऐसे सुरक्षित सिगरेट का आविष्कार कर लिया है जो सेहत को किसी प्रकार का नुकसान नहीं पहुंचाएगी यह एक तरह का निकोटीन इनहेलर है जो सामान्य सिगरेट पीने जैसा अनुभव देगा लेकिन इसमें तंबाकू से जुड़ा कोई भी जोखिम नहीं होगा सिगरेट जैसे आकार के इस इनहेलर में किसी प्रकार का तंबाकू नहीं होगा और जब कोई इस का  कब पूछेगा तो यह सिगरेट की तरह जलेगा भी नहीं शोधकर्ताओं का कहना है कि यह किसी भी प्रकार से फेफड़ों को प्रदूषित नहीं करेगा निकोटीन का एहसास कराने वाला यह सिगरेट रूपी उपकरण आम सिगरेट की तरह ही दिखता है उसी तरह का एहसास देता है इसका आविष्कार ऑक्सफोर्ड के 28 वर्षीय ग्रेजुएट एलेक्स हरने ने किया है इस शोध पर ब्रिटेन के कई दौलत मन नहीं उसको ने पैसा लगाया है ब्रिटिश अमेरिकन टोबैको कंपनी जॉर्डन हिल कैंट लकी स्ट्राइकर और पाल माल जैसे लोकप्रिय ग्रेड ब्रांडों की निर्माता है सिगरेट का लाइसेंस लेने की दौड़ में शामिल है सिगरेट के अविष्कारक हरण अपने उत्पाद को लेकर ब्रिटेन के मेडिसिन एवं हेल्थकेयर प्रोडक्ट रेगुलर की एजेंसी से बातचीत करने वाले हैं ताकि इसे निकोटिन इनहेलर के तौर पर चिकित्सा उत्पादों में शामिल किया जा सके अमेरिकी अमेरिकी टोबैको के प्रवक्ता के अनुसार यह उत्पाद विकसित होने की आखिरी चरण में है और अगले 2 वर्षों के भीतर दुनिया के बाजारों में बिक्री के लिए उपलब्ध होगा जो लोग सिगरेट छोड़ना चाहते हैं उनके लिए सुरक्षित विकल्प होगा पिछले कई वर्षों से धूम्रपान का सुरक्षित विकल्प तैयार करने के लिए बहुत प्रयास किए जा रहे थे इस क्रम में कुछ वर्षों से इलेक्ट्रिक सिगरेट बाजार में उपलब्ध है इसका आविष्कार चीन के वैज्ञानिकों ने किया था बैटरी से चलने वाली इस सिगरेट का कश खींचे जाने पर या बात छोड़ दी है यहां तक की जलती हुई है लेकिन सिगरेट के आदि लोगों की शिकायत थी कि यह सिगरेट से पर्याप्त निकोटीन नहीं होता जिससे उनकी तलब पूरी नहीं होती इन शिविरों में तार नहीं होता जो कि सेहत के लिए सबसे ज्यादा घातक होता है वैज्ञानिक अब इस बात से सहमत हैं कि सेहत को निकोटीन बहुत कम नुकसान पहुंचाता है अमेरिका में इन सिग्रेटो को मान्यता है विशेषज्ञ मानते हैं निकोटिन इनहेलर ई सिगरेट का सुरक्षित विकल्प साबित होगा उल्लेखनीय है कि दुनिया में तंबाकू के सेवन से होने वाली बीमारियों के चलते हर साल 5000000 लोगों की मौत हो जाती है यह संख्या युद्ध सड़क दुर्घटनाओं और एड्स से मरने वालों की संख्या से कहीं ज्यादा है

छिपकली के पूंछ की तरह उगेंगे मनुष्य के अंग

छिपकली भी अजीब प्राणी है उसकी पूंछ स्वम ही झड़ जाती है है और कुछ समय बाद पुनः उग जाती है वैज्ञानिको ने अब इस रहस्य को समझ लिया है वैज्ञानिको ने यह अनुवांशिक नुस्खा खोज निकला है जो छिपकली के अंग के पुनिर्माण के लिए कारक है वैज्ञानिको का कहना है की आनुवंशिक सामग्री के सही मात्रा में मिश्रण से यह संभव है छिपकली में पाए जाने वाले अंग पुनर्निर्माण के आनुवांशिक सामग्रियों के सही मात्रा का पता लगाकर उन्ही जीन को मानव कोशिका में प्रत्यारोपित कर उपास्थि मांसपेशी यहाँ तक ऋण की हड्डी की पुनर्संग्रचना भविस्य में सभव है एरिज़ोना स्टेट यूनिवर्सिटी के किनारो कुसमी ने कहा छिपकली में वही जीन होते है जो मनुस्यो में होते है ये मनुस्यो की शारीरिक संगरचना से मेल खाने वाला जीव है इससे विभिन्य पारकर की बीमारियों का इलाज संभव है

चाँद पे एलियन देखने का दावा

अन्य ग्रहो के चेतनायुक्त प्राणियों को देखना तथा उनके सात आत्मीयता बढ़ाना सपना सा लगता है इन्ही प्राणियों को को एलियन कहा जाता है एलियन हमेसा से पृथ्वी वासियो के लिए कौतुहल का विषय बना हुआ है कई वैज्ञानिको ने एलियन से जुडी बाते दुनिया के सामने रखी है नासा ने भी एलिअन्स के विषय में एक सूचना दी है नासा ने एक वीडियो में मानव आकृति जैसा प्राणी चाँद पे चलते देखा है नासा ने इस दिशा में और भी जांच कर जानकारी देने को कहा है इस वीडियो को देखने वालो के लिए इसकी परछाई को देख पाना किसी आश्चर्य से कम नहीं है यह अनरिच्या के शोध में नयी दिशा दे सकती है

शीशे की तरह पारदर्शी होंगे शरीर के अंग

कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के वैज्ञानिकों ने एक ऐसी तकनीक विकसित की है जिससे पूरा शरीर शीशे की तरह पारदर्शी हो जाता हैयह शोध सेल नामक अनुसंधान पत्रिका में प्रकाशित हुआ है इस तकनीक से शरीर को हानि नहीं पहुंचती और शरीर के सभी अंगों को देखा जा सकता है इससे यह जानने में मदद मिलेगी कि शरीर के विभिन्न अंग किस तरह काम करते हैं करीब एक सदी से वैज्ञानिक शरीर को पारदर्शी रूप में देखने का प्रयास कर रहे हैं थे लेकिन अधिकांश तक नीचे उतर को नुकसान पहुंचा सकती हैं कोशिकाओं में मौजूद लिपट के मोटे कण प्रकाश किरणों को वितरित कर उसको को अपारदर्शी बना सकते हैं लेकिन उन्हें विकसित करने में प्रयोग होने वाले प्रक्रिया से अंग कमजोर हो सकते हैं और उनका आकार बिगड़ सकता है कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के वैज्ञानिकों ने पूर्व के वैज्ञानिक कामों के आधार पर एक तीन स्तरीय तकनीक विकसित की है एक नरम प्लास्टिक की झिल्ली उसको को सहारा देती है खून के प्रवाह के जरिए अनुवांशिक डिटर्जेंट को उसको लगातार जला डाला जाता है यह रिपीट को खोलता है और अंगों को पारदर्शी बनाता जाता है महत्वपूर्ण जोड़ों को पहचान के लिए इस मिश्रण में पहचान करने वाले रंगों और अंगों को मिलाया जा सकता है

विशालकाय रहस्यमय जलीय जीव

लोच नेस मॉन्सटर पानी में रहने वाला एक विशाल जीव है जो अब तक रहस्य्मय ही बना हुआ है इससे संबंधित किद्वन्तियाँ भी प्रचलित है माना जाता है कि यह स्कॉटिश हाई लाइट्स पर रहता है हमने कई समुद्री जीव देखे हैं जिसमें से कुछ अति सुंदर तो कुछ अत्यंत भयंकर होते हैं इन्हीं भयानक जीवो में से एक लोच नेस मॉन्सटर है स्कॉटलैंड की झील लोच नेस पाया गया है वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर एली विलियम्स ने इस अजीब अजीबोगरीब जीव की तस्वीर ली है बाद में जब उन्होंने इन तस्वीरों को देखा तो अली का ध्यान इस मॉन्स्टर की ओर गया हालांकि यह पहली बार नहीं है जब पानी में रहने वाला यह जीव सबकी नजरों में आया है सबसे पहली बार यह इसी झील में 2006 में देखा गया था जिसके बाद से वह वहां आने वाले लोगों को सचेत कर दिया गया था फोटोग्राफर अली ने कहा कि शुरुआत में मुझे लगा वह कोई सांप की प्रजाति है फिर कैटफिश की तरह लगा मगर मुझे नहीं पता वह है क्या मैं यहां विशेष लोगों के ऊपर छोड़ता हूं आपको बता दें लोच नेस मॉन्सटर पानी में रहने वाला एक विशाल जीव है जिस कारण अभी तक बरकरार है कुछ लोग उसके अस्तित्व पर शक भी करते हैं मगर इससे संबंधित कई किस्से भी सामने आए हैं माना जाता है

Featured Post

हमारा विज्ञानऔर हमारी धरोहर

जब हमारे देश में बड़ी बड़ी  राइस मील नहीं थी तो धान को घर पर ही कूटकर भूसे को अलग कर चावल प्राप्त किया जाता था... असलियत में वही...